खतरनाक और जानलेवा मछलिया

 

दुनिया एक रहस्य हैं जिसमे कही जीव शामील भी हैं लेकीन अभी तक कही जीव एैसे भी हैं जिनकी पुरी खोज नहीं हुई हैं |


कही जीव एैसे भी हैं जो की आपने गुजारे केलीय दुसरे पे निर्धारित होते हैं | कही जीव एैसे भी हैं जिनके खतरनाक होणे का अंदाजा भी नहीं लगाया जा सकता हैं उसमे जल मे रहणे वाली मछलियोंका समावेश भी होता हैं | दर साल मछलियोंके वजासै कही आदमी तथा जीव भी मारे जाते हैं | ओर एैसी मछलिया भी हैं जिनके नाम से ही रुह काप उट ती हैं |

 

तो नमस्कार दोस्तों स्वागत हैं आपका ओर एक रोमांचक ब्लॉग सीरिज मे | आज हम एक रोमांचक टॉपिक के उपर बात करने वाले हैं  जो की दुनिया में सबसे खतरनाक जिवो मे आते हैं |

हा तो दोस्तों आज हम दुनिया की सबसे खतरनाक मछलियोंके बारे मे बात करने वाले हैं  |तो चलो शूरू करते हैं |

 

मछलियोंमे कही ऐसी महाकाय मछलिया शामिल हैं जो की हाती तक निगल सकती हैं और कही ऐसी भी मछलिया हैं जो की एक किडे जितनी छोटी लेकीन किसिका भी जिना हराम कर सकती हैं |

 

उसमे कही ऐसी प्रजातिया हैं जो की जहर उगलती हैं और कोई ऐसी भी हैं जो बिझली बरसाथी हैं  और कोई ऐसी भी हैं जो की किसी जिवको जिंदा निगल जाती हैं | कही तो अंधा कर देथि हैं और कोई आपने तेज दातो से लोहेतक को भी चबा जाती है |

 

तो आज हम ऐसे ही खतरनाक मछलियोंके बारे मे बात करने वाले हैं जो किसी भी जीव को जिंदा बक्ष नहीं देती हैं |

 

स्टोनफिश :

स्टोनफिश को दुनिया की सबसे जहरीले जीवो मेसे एक माना जाता हैं | ये मछलि एशिया के इंडो पॅसिफिक मे पाई जाती हैं | जैसा नाम वेसै ही उसका शरीर हैं इसको समुद्र मे धुंड पाना नामुमकिं न हैं क्यूँ की ये एक पथर जैसी दिखती हैं | इसको जहरीला बनाती हैं उसके जहरिले कांटे जब कोई उसेके नजदीक आना चाहता है तो ओ आपने कां टे को उसके शरीर मे चुबाता हैं ओर उस कांटो से निकलता हैं जहर जो की कुछ ही सेकंद मे आदमी के शरीर मे प्रेवेश करता हैं | इस मछलि की खास बात ये हैं की २४ घंटे तक ये मछलि पाणी के बाहर रह सकती हैं | ये आपने शरीर के रचना के कारण किसी भी पथर मे आपने आप को ढल देती हैं जिसके कारण दुसरा जीव इस्कों पथर समजनेकी भुल कर देता हैं और आपने आप को मौत के मूमे धकेल देता हैं |




 

पयारा :

पयारा को सबसे खतरनाक मछलि भी काह जाता हैं | पयारा सबसे खुंखार ओर जानलेवा मछलि मे से एक मछलि माना जाती हैं | ये मछलि आपने मजबूत जबडे औंर नुकीली दांतो के लिये मशहूर है उनके नीचले जबडे मे दो बडे दांत मौजुत होते हैं जो की बहुत ही नुकीले होते हैं ओर जबडा बंद करणे के बाद ओ मू के अंदर जाते हैं | ये मछलिया ४ से ५ फिट तक लंबि हो सकती हैं | आपने दातो  के कारण ये मछलि आपने से बडे मछलि को भी निगल सकती हैं |




इलेक्ट्रिक इल :

इलेक्ट्रिक इल एक कॅट फिश होती हैं | दक्षिण अमेरिकी नदियोमे इसकी ज्यादा तर प्रजाती पाई जाती हैं | जैसा उसका नाम है उसे बडा उसका बर्ताव हैं | इसको पाणी की सबसी खतरनाक जीव माना जाता हैं | जिस्को टच करना ही एक गलती हैं | उसको टच करना जैसे की एक नंगे इलेक्ट्रिक तार को टच करने के बराबर होता हैं | २ मीटर लंबी ये मछलि ६०० हॉल्ट तक करंट दे सकती हैं | ए प्रजाती आपने शिकार को धुंढणे या एक दुसरे को सिग्नल देणे के लिये इलेक्ट्रिक सिग्नल का इस्तमाल करती हैं | महज ईसका एक टच इंसान के नर्व्हस सिस्टम को बरबाद कर सकती हैं | ये मछलि आपने आंदर एक नॉर्मल इलेक्ट्रिक करंट को रखती हैं लेकीन कोई खतरा महसुस् होणे के बाद उस करंट को १० गुना कर देती है | जिस के एक टच से जीव मर भी सकथा हैं |




 

पिरहाना :

इसका नाम तो आपने सूना  होगा |आकार मे छोटी लेकीन बेहद खुंखार माने जांने वाली ये मछलि ३० से ४० प्रजातियो मे पाये जाती हैं जिनमे लाल पेठ वाली पिरहना को बहुत ही खुंखार माना जाता हैं | इस मछलिको सबसे घुसेल ओर खुंखार मछलि माना जाता हैं | ये आपने घुस्से से खूब मशुहुर भी हैं | पिरहाना उसके नुकिले दांत ओर मजबूत जबडे के लिये मशहूर है | कहा जाता हैं की महज ३० सेकंद मे ओ मनुष्य की हडी योको चुर चुर कर देती हैं | पिरहाना सदैव भोजन के लिये तत्पर रहती हैं | अंडे से निकलेते ही ये छोटे छोटे जीव ओर पौदो को खाना शूरु कर देती हैं | पिरहाणा ज्यादा तर झुंड मे रहति हैं ओर झुंड मे ही शिकार करती हैं |




सॉ फिश :

इस प्रजाती को दुर्लभ ओर अनोखी फिश माना जाता हैं | इसकी लंबाई ७ फिट से लेकरं २० फिट होती हैं | सॉ फिश की लंबे नाक पर नूकीले कां टे पाये जाते हैं | उसकी नाक एक लकडी काटने वाली आरी की तरह होतो हैं |उस नाकसे ओ दुसरे जीव को बहुत नुकसान पोहचा देती हैं |




 

कॅंडीरू फिश : 

कॅंडीरू फिश  ना सिर्फ खतरनाक बल्की बहुत ही जहरीली फिश मानी जाती हैं | अमेझॉन मे पाये जाणे वाली ये मछ ली छोटे राक्षस के नाम से जानी जाती हैं | इसे पेन्सिल फिश तथा तुठ पेस्ट फिश के नाम से जाणी जाती हैं | ये इतनी छोटी होती हैं की शरीर के अंदर जा सकती हैं जिस कारण किसी की भी मौत हो सकती हैं |

 


 

लायन फिश  :

ये प्रजाती इंडो पेसिफिक या अटलांटिक महासागर मे पाये जाती हैं | इस्के लाल भुरे काले ओर सफेद रंग के पटिया होती हैं | इसे जेब्रा फिश , टर्की फिश या बटरफ्लाय भी कहा जाता हैं| इ स की लंबाई ५ से ३५ सेमी तथा वजन १.३ किलो तक होता हैं | उसका जहर जनवरो की तरहा मनुष्य पे भी होता हैं ओर उसका डंक बहुत दर्दनाक होता हैं ओर उसके काटनेसे उलटी तथा सांस लेणे मे तकलीफ होती हैं |




तो ये थी दुनिया की दुर्लभ ओर अनोखी मछलिया | आगर आपको ब्लॉग पसंद आया हो तो कमेंट करना मत भुलो हा ओर शेअर भी कर दो | अभी तक के लिये शिक्रिया जलद ही मिलते हैं आगली ब्लॉग मे |

6 Comments

ONLY RELATED COMMENTS

  1. Hi, publish article on venom and antivenom and also these article is very interesting ��

    ReplyDelete
  2. venom and antivenom and also these article is very interesting. Great 👌 keep it up

    ReplyDelete
  3. awesome Brother... !!
    focus on lengthy write up..
    you doing very-well.

    ReplyDelete
Post a Comment
Previous Post Next Post