रशिया और एलियंस 👽

तो नमस्कार दोस्तों आप साबका स्वागत हे ओर एक मिस्टरिअस ब्लॉग सीरिज मे | तो जैसे कि हमने पिछले ब्लॉग में देखा था अमेरिका में मौजूद एक रहस्यमई जगा जिसका नाम था AREA 51 | ये एक ऐसी जगह हे जिसको alien 👽 का घर माना जाता है |




तो आज हम ऐसे खुपिया डॉक्यूमेंट्री के बारे में बात करने वाले हे जिसका सीधा aliens के साथ रिश्ता होने कि गुंजाइश है | और दोस्तो जब आप aliens का नाम सुनते है तो आपके नजरो के सामने Hollywood मूवीज का दृश्य आता होगा | योंकी हमे पता नहीं कि वोह aliens है या तो हमारे भविष्य से आए हमारे ही वंशज तो यही जानेंगे आज के ब्लॉग में | 


तो कोनसा ऐसा देश है जो aliens की मौजूदगी को छुपाना चाहता है या कहे तो छुपा रहा है ?


तो जब कभी हमने aliens का नाम सुना है तो हमें सिर्फ अमेरिका दिखाई देता हे । पर आज हम अमेरिका के नहीं बल्कि आज हम रशिया के बारे में जानेंगे जिसका aliens के साथ बहोतही पुराना रिश्ता है |


तो क्या है वोह खूपिया डॉक्यूमेंट्री?


2009 में जब रूस सरकार ने कुछ सीक्रेट डॉक्युमेंट्स के बारे में पता चला तो सभी के पैरो तले जमीन खिसक गई। और जब हमने इसके बारे में खोज कि तब हमारे भी होश उड़ गए क्योंकि उसमे सिदे 👽 को खत्म करने का यानी की मारने का जिक्र किया जा रहा था। और उस वक्त जब सभी डॉक्युमेंट्स लीक हुवि थी तब उसमे एक ऐसी डॉक्युमेंट मिली जिसपे तारीख और वक्त का कोई जिक्र नहीं था । और उसी डॉक्युमेंट में ये पाया गया कि रशिया के सबमरीन (पनडुब्बी) का 👽 के साथ अमना सामना हुआ था । और वोह भी साउथ पैसिफिक ओसियन में करीब 260 मीटर की गहराई में पेट्रोलिंग कर रही थी। तब अचानक से उनके सबमरीन के सैटलाइट में 6 objects जो कि UFO की तरह थे वोह सीधे सबमरीन के तरफ आ रहे थे। और वोह भी बहोत ज्यादा तेजी से और उनकी स्पीड थी 420kmph जो कि अभी तक किसी सबमरीन के बस की बात नहीं थी । और हमारी जानकारी के हिसाब से पूरे वर्ल्ड में अभी तक ऐसी कोई सी मशीन नहीं बनी जो इतने तेजी से पानी में ट्रैवल कर सके । तब उस जहाज के कैप्टन को लगा कि ये किसी प्रकार का अटैक हे इसलिए उन्होंने जहाज सीधे सतह की ओर मोड़ दी। और जब वोह सतह पर आए तब उन्होंने प्यारस्कॉपे से जो देखा वोह दृश्य रोंगटे खड़े कर देने वाला था । उन्होने देखा की 6 डिस्क जैसे दिखने वाले objects जिनके बारे में कुछ पता नाही था वोह अचानक बाहर आते है और आसमान में प्रकाश के गति से भी ज्यादा तेज छू मंतर हो जाते है । मानो जैसे कि कुछ हुआ ही नहीं । तो क्या हम मान सकते है कि उन्होंने पानी के नीचे अपना छुपने का अड्डा बना लिया होगा या वोह कुछ सक्रिय सिग्नल के बजे से वहा आए होंगे । क्योंकि मनुष्य ने अंतरिक्ष को एक्सप्लोर किया है पर अभी तक समुद्र के रह्यासो को सुलझा नहीं सका । ये तो था 2009 साल का 1 किस्सा पर अब हम जानेंगे 1982 का एक किस्सा जिसको जानके आपके होश उड़ जायेंगे ।


तो क्या हुआ था ऐसा 1982 में जाने ?


आपको जानकार हैरानी होगी कि उस वक्त बस 👽 का जहाज नहीं दिखाता बल्कि उस वक्त 👽 के साथ सीधे आमना सामना हुआ था। ये बात है LAKE BAIKAL के बारे में जो कि स्थापित है साइबेरिया में । जो कि एक फ्रेश पानी का तालाब है । पर उसके ज्यादा बर्फीले होने कि वजह से उसे एक्सप्लोर नहीं किया है । पर 1982 में जब 7 रशियन आर्मी के गोताखोरों ने 50 मीटर अंदर जाकर जब रिसर्च मिशन को अंजाम देना चाहा तो उस वक्त उनको ऐसा महसूस हुआ की कोई उनपर नजर रखे हुवे है तोह वोह वहीं जानने के लिए थोड़ा और नीचे गए और उन्होंने देखा कि अजीब से दिखने वाले जीव जिन्होंने सिल्वर कपड़े पहने थे और पारदर्शी हेल्मेट पहना था और उनकी लंबाई 8 फुट तक थी और वोह दिखने में इंसानों जैसे ही थे । और जब गोताखोरों ने उन्हें देखा तो वोह बहोत डर चुके थे। मगर हिम्मत जुटाकर वोह गोताखोर उनके पास गए तो उस जीव ने एक बड़ा ही तगड़ा स्पोट किया जो इतना पॉवरफुल था कि जिससे गोताखोर 70-80 मीटर पनिमेसे सतहपर आगाए । उसमे 3 कि मौत हो गई और बाकी के अदमेरे हो गए ।

 



तो बतवो दोस्तो आपको क्या लगता है कि वोह 👽 ही थे या फिर हमारे वंशज जो भविष्य से आके हमे नई टेक्नोलॉजी का ज्ञान देना चाह रहे थे ।


यदि आपको ब्लॉग अच्छा लगा हो तो कॉमेंट करो और साथ ही शेयर भी करो और अगर आप हमसे जुड़ना चाहते है तो हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्सक्राइब करे और अगर आप चाहते हो कि हम आपके दियी गए  किसी  विषय पर ब्लॉग करे तो हमे कमेंट करना मत भूलें।

 

Written by:-  Mr. $aurabh Patil.

                      Mr. $ainath Nale.

5 Comments

ONLY RELATED COMMENTS

Post a Comment
Previous Post Next Post