PARALLEL LIFE ? || समानांतर जीवन ?

समानांतर जीवन ?
हैलो दोस्तो आप सबका स्वागत है एक और नए ब्लॉग में और आज का टॉपिक बहोत रोमांचक है । आज हम बात करने वाले हे PARALLEL LIFE (समानांतर जीवन)के बारे में।अपने कहीं पे इसके बारेमे सुना होगा। तो दोस्तो आपने कभी ना कभी सोचा होगा की क्या हमारी जैसी लाइफ है वैसी किसी और कि लाइफ हो सकती है क्या? या यूं कहे तो जैसी मुसीबतें हमें आती हे वैसी मुसीबतें किसी और को आती होगी क्या? तो हा दोस्तो ऐसा भी हो सकता है । क्योंकि ये बहुत सारे लोगों के साथ हो चुका है । और ये आपके साथ भी हो सकता है कि आप अभी जैसे जी रहे हो वैसे कोई इंसान जी चुका होगा या वो ऐसी जिंदगी जिएगा।
तो आज हम कुछ लोगो के बारे मे जानेंगे जिनकी जिंदगी भी समानांतर  थी।पहले आते है अब्राहम लिंकन और जॉन एफ कैनेडी। इनकी जिंदगी समानांतर जीवन (Parallel life) का एक बहुत अच्छा सबूत माना जाता है ।
 अब्राहम लिंकन                                                 
                                                            जॉन एफ कैनेडी 

अब्राहम लिंकन 1860 में अमेरिका के राष्ट्रपति बने थे और उसिके 100 साल बाद यानी के 1960 में अमेरिका के राष्ट्रपति थे जॉन एफ कैनेडी । इन दोनों के जिंदगी में पूरे 100 साल का अंतर हे। 1846 में लिंकन ने चुनाव लडा और उसके 100 साल बाद यानी कि 1946 में केनेडी ने चुनाव लडा था । फिर 1860 में लिंकन प्रेसिडेंट बने और दूसरी ओर 1960 में केनेडी प्रेसिडेंट बने । ये दो बाते सुनकर आपको लगा होगा कि ये तो महज इतिफाक भी हो सकता है मगर अब में जो आपको बताने वाला हूं वो जानकार आप हैरान हो जाएंगे । शायद आपको पता नहीं होगा की लिंकन के सेक्रेटरी का नाम केनेडी था और केनेडी के सेक्रेटरी का नाम लिंकन था । और उन दोनों की मौत सिर के पीछे गोली लगने से हुवी थी और दोनों की मौत के समय उनकी पत्नी भी उनके साथ थी। लिंकन की मौत फोर्ड नाम के थियेटर में हूवी थी और केनेडी की मौत फोर्ड नाम के कार में हुई थी। अगर एक या दो बाते समान होती तो हम इसे महज एक इतेफाक मान लेते पर याहापे तो सबकुछ मैच हो रहा है तो हम इसे इतिफाक नहीं मान सकते फिर हम इसे parallel life केहते he। अगर देखा जाए तो parallel life के बारे में अभी भी साइंटिस्ट खोज कर रहे है जैसे कि parallel life सिर्फ दो लोगो की होती है या बहुत लोगो की लाइफ एक जैसी होती है । और ऐसी कहीं बाते हे जिनकी खोज होना अभी बाकी है। 
और अगर आपको ऐसे और लोगो के बारे में पढ़ना हे तो हमे जरूर कॉमेंट करे आपके लिए हम ऐसे और किस्से लाते रहेंगे।
written By : Saurabh Patil .

7 Comments

ONLY RELATED COMMENTS

Post a Comment
Previous Post Next Post